What is Computer Memory-कम्प्युटर मेमोरी क्या है ?

कम्प्युटर मेमोरी क्या है (What is Computer Memory)

दोस्तों आज पोस्ट में आपको कम्प्युटर से सम्बधित computer memory kiya hai बताने जा रहा हूँ ! जो की बहुत सी प्रतियोगिता परीक्षा में अक्सर पूछा जाता है ! अगर आपको यह पोस्ट computer memory kiya hai अच्छी लगे तो आप हमें अपने सुझाव जरुर दे !


Computer में Computer Memory का उपयोग Computer को दिए जाने वाले डाटा तथा निर्देशों  संचित करने तथा आवश्यकता पड़ने पर पुन: प्राप्त के लिए किया जाता है ! Computer Memory के रूप  में विभिन्न उपकरणों तथा साधनों का प्रयोग करता है जो की उसे स्थाई तथा अस्थाई स्मृति प्रदान करते है ! वैसे तो मेमोरी का कार्य डाटा संचय करना ही होता है लेकिन आज के कम्प्युटर में विभिन्न प्रकार की Computer Memory पाई जाती है !
Memory , Computer में वह इलेक्ट्रॉनिक स्थान होता है जहां डाटा तथा प्रोग्राम को रखा जा सकता है तथा जहाँ से माइक्रो प्रोसेसर उन सूचनाओ को पढ़ सकता है ! वैसे तो Computer में आंतरिक तथा बाह्य दोनों प्रकार की भंडारण युक्तिया होती है लेकिन मेमोरी शब्द का प्रयोग आंतरिक भंडारण के लिए किया जाता है !

कम्प्युटर मेमोरी के प्रकार (Type of Computer Memory)


दोस्तों Computer में दो प्रकार की Computer Memory पाई जाती है !जिन्हें प्रधान स्मृति (Main Memory) तथा अप्रधान स्मृति (Auxillary Memory) स्मृति कहते है !

(1).मुख्य/प्रधान स्मृति (Main Memory)


यह कम्प्युटर की एक अधिक क्षमता वाली आंतरिक स्मृति है ! यह स्मृति इंटिग्रेटेड सर्किट (Integrated Circuit) या IC के रूप में यह मेमोरी डाटा तथा प्रोग्राम को संचित करने के काम आती है ! प्रोग्रामो को क्रियान्वयन (Execution) करने के लिए मुख्य स्मृति में लाना पड़ता है ! इसे Computr की संचित प्रोग्राम अवधारणा (Stored Program Concept) कहते है ! Main Memory सीधे ही प्रोसेसर के सम्पर्क में रहती है !

(2).सहायक/अप्रधान स्मृति (Auxillary Memory)


किसी Computer के लिए सहायक स्मृति का आकार असीमित होता है लेकिन गति आंतरिक स्मृति की तुलना में कम होती है ! सहायक स्मृति का प्रयोग प्रोसेसिंग से पहले या प्रोसेसिंग के बाद डाटा व प्रोग्रामो को संचित करने में किया जाता है ! सहायक स्मृति सभी डाटा व सूचनाओं को स्थाई रूप में संचित करने के काम आती है !


Computer Memory के मापन की इकाईया :- 

Computer Memory उसके द्वारा डाटा के भंडारण की क्षमता को कहते है ! स्मृति भण्डारण की क्षमता होती है ! अत: इसको मापने के लिए निम्न Unit का प्रयोग किया जाता है !

Bit (Binary Digit)           
Byte
Kilo Byte (KB)
Mega Byte (MB)
Gega Byte (GB)
Tera Byte (TB)

कम्प्युटर में आंतरिक रूप से सभी डाटा तथा सुचना मात्र दो अंक 0 या 1 में निरुपित होते है !जिन्हें हम Bit अर्थात Binary Digit कहते है !इसकी अन्य इकाईयों में परस्पर संबध है !

8 bits                = 1 Byte
1024 bytes       = 1 KB
1024 KB          = 1 MB
1024 MB         = 1 GB
1024 GB          = 1 TB

सामान्यत: कम्प्युटर मेमोरी को बिट (bit), बाईट (byte),किलोबाइट (KB) ,मेगाबाइट (MB) ,गीगाबाइट (GB) आदि में मापा जाता है ! लेकिन कभी-कभी कम्प्युटर की आंतरिक मेमोरी को मेमोरी शब्द (Memory Word) से भी परिभाषित किया जाता है ! एक मेमोरी शब्द (Memory Word) से आशय है की Computer Memory की एक साथ डाटा संचय करने तथा एक साथ डाटा की पढने की क्षमता से है ! जितने बिट्स (Bits) एक कम्प्युटर एक साथ लिख या पढ़ सकता है ! उसे मेमोरी शब्द कहते है !

1 word = 4 bytes = 32 bit

मेमोरी प्रणाली के विशिष्ट गुण :-

1.क्षमता (Capacity)

आंतरिक प्रोसेसर मैमोरी का आकार किलो बाइट से लेकर कुछ मेगा बाइट तक होता है जबकि मुख्य मैमोरी (Main Memory) का आकार मेगा बाइट में मापा जाता है ! हार्डडिस्क तथा विडियो डिस्क जैसे बाह्य मैमोरी उपकरणों की क्षमता गीगाबाइट तक होती है !
कम्प्युटर की संचय क्षमता निम्न इकाईयों में मापी जाती है --

bit                    Mega byte
byte                 Gega byte
Kilo byte         Tera byte

2.स्थानांतरण की गति ( Speed of Transfer)

किसी भी Computer Memory एक साथ कितना डाटा पढ़ या लिख सकते है उसे डाटा स्थानांतरण की गति कहते है ! बाह्य मेमोरी उपकरण जितना डाटा एक साथ लिख या पढ़ सकती है उसे डाटा ब्लॉक कहते है !

3.पुन:प्राप्ति की विधियां (Methods of Access)

Computer Memory से डाटा को पुन: प्राप्त करने की निम्न विधियां प्रचलित है -
(a)श्रृंखलाबद्ध अभिगम्यता 
(b)सारणिक श्रृंखलाबद्ध अभिगम्यता 
(c)तत्काल अभिगम्यता

4.कार्यकुशलता (Performance)

कोई भी कम्प्युटर मैमोरी चाहे वह आंतरिक हो या बाह्य किसी गति से अपने से संचित डाटा को पढ़ सकती है वह उसकी कार्यकुशलता कहलाती है !

5.उपकरण (Device)

(a)चिप (Chip):-कम्प्युटर की लगभग सभी आंतरिक मैमोरी इंटिग्रेटेड सर्किट अथवा चिप के रूप में होती है ! इन्हें CPU के अंदर स्थित मदरबोर्ड पर लगाकर कम्प्युटर से जोड़ा जाता है !इन्हें सेमी कंडक्टर मैमोरी भी कहा जाता है !

(b)मैग्नेटिक उपकरण (Magenetic Divice):-कम्प्युटर के कुछ मेमोरी उपकरण होते है जिनकी सतह पर मैग्नेटिक पदार्थ का लेप किया जाता है ! 

(c)ऑप्टिकल उपकरण (Optical Devices):-ऑप्टिकल मैमोरी उकरण सबसे उच्च घनत्व के होते है अत: इनके कम स्थान में भी काफी अधिक डाटा संचित होता है !

6.भौतिक लक्षण (Physical Characterstics):-
भौतिक लक्षण के आधार पर मैमोरी को तीन भागों में बाटा जा सकता है --
(a)वोलेटाइल मैमोरी (Volatile Memory):-यदि किसी कम्प्युटर मैमोरी उपकरण में संचित डाटा बिजली चले जाने के कारण या कम्प्युटर बंद करने पर delete हो जाते है तथा सम्पूर्ण मैमोरी पुन: रिफ्रेश हो जाती है तो इस प्रकार के मैमोरी उपकरण को वोलेटाइल मैमोरी कहते है !

(b)नॉन वोलेटाइल मैमोरी (Non-(Volatile Memory):-इस प्रकार के मैमोरी उपकरणों में जो सुचना एक बार संचित कर दी जाती है वह तब तक संचित रहती है जब तक यूजर उसको वहाँ से डिलीट नही करता है !इस मेमोरी के डाटा कम्प्युटर बंद करने या बिजली चले जाने से डिलीट भी नही होते है !

(c)नॉन इरेजेबल मैमोरी (Non-Erasable Memory):-स्थाई मैमोरी कहे जाने वाले उपकरण वे होते है जिनमे डाटा कभी भी हटाया जा नही सकता है ! कम्प्युटर की आंतरिक कह जाने वाली सेमी कडंक्टर रीड ओनली मैमोरी इस श्रेणी में आती है !